बायजू की ‘एजुकेशन फॉर ऑल’ ने दिल्ली स्थित चाइल्ड एंड यूथ केयर एनजीओ उदयन केयर के साथ सहयोग किया है. साझेदारी का लक्ष्य अनाथ बच्चों के साथ-साथ गरीब परिवारों की 1500 से अधिक लड़कियों की सहायता करनी है. साझेदारी का उद्देश्य कक्षा 4-12 के छात्रों को मुफ्त शिक्षण और उनकी डिजिटल चुनौतियों का समाधान करना है। इन छात्रों की BYJU’S Learning ऐप पर विशेष सामग्री तक पहुंच होगी. BYJU’S और उदयन केयर के बीच सहयोग 2025 तक पूरे भारत में 10 मिलियन वंचित बच्चों को आत्मनिर्भर बनाना है.

बता दें कि उदयन केयर वंचित बच्चों और युवाओं की सहायता के लिए कई कार्यक्रम चलाता है. उदयन घर कार्यक्रम के तहत अनाथ, परित्यक्त और माता-पिता की देखभाल के बिना बच्चों को 18 वर्ष की आयु तक देखभाल, सुरक्षा और समग्र विकास सहायता दी जाती है. 18 साल का होते ही इनको उदयन घर आफ्टरकेयर प्रोग्राम के तहत स्वतंत्र रूप से रहने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है.

उदयन शालिनी फैलोशिप कार्यक्रम आर्थिक रूप से विकलांग लड़कियों के लिए शिक्षा उत्कृष्टता और व्यक्तित्व विकास कार्यक्रम है. यह छात्रवृत्ति, व्यक्तिगत सलाह, और जीवन कौशल और रोजगार कौशल में प्रशिक्षण और कार्यशालाओं का एक क्यूरेटेड कार्यक्रम है.1

BYJU’S की वीपी-सोशल इनिशिएटिव्स मानसी कासलीवाल ने बताया कि “BYJU’S में बच्चों को सीखने के समान अवसर प्रदान किए जाते हैं. उदयन केयर के साथ साझेदारी में बेघर या अनाथ बच्चों को डिजिटल शिक्षण उपकरण सुलभ कराए जाएंगे। ताकि बच्चे समग्र विकास और विकास के लिए सीखने के अवसरों से वंचित न रहें.

उल्लेखनीय है कि बायजू के लर्निंग ऐप ने सीखने प्रक्रिया को मजेदार बना दिया है. ऐप ने बच्चों को महामारी के दौरान केंद्रित रहने में मदद करके सीखने की प्रक्रिया को आसान बना दिया है. उदयन केयर की कार्यकारी निदेशक अंजलि हेगड़े के अनुसार बच्चों और युवाओं को विज़ुअलाइज़ेशन अवधारणाओं को बेहतर ढंग से समझने में मदद करना ही अंतिम उद्देश्य है.

2020 में शुरू की गई BYJU की पहल ‘एजुकेशन फॉर ऑल’ का उद्देश्य शिक्षा पारिस्थितिकी तंत्र में प्रणालीगत बदलाव लाना है. 2025 तक 10 मिलियन वंचित बच्चों को सशक्त बनाने के साथ इस पहल ने 400 जिलों में 175+ गैर सरकारी संगठनों के माध्यम से देश के दूर-दराज के 5.5 मिलियन बच्चों को प्रभावित किया है. BYJU’S Education for All प्रोग्राम के लगभग 50% लाभार्थी लड़कियां हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published.