जयपुर. काले हिरण के शिकार मामले में निचली अदालत से पांच साल की सजा पाने वाले अभिनेता सलमान खान शनिवार को जोधपुर के जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में पेश होना है लेकिन माना जा रहा है कि वे 17वीं हाजिरी माफी की दरख्वास्त के सहारे इस बार भी कोर्ट में पेश होने से बचेंगे। सलमान इससे पहले 16 पेशियों पर कोर्ट के समक्ष हाजिर नहीं हुए।

जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने 1 दिसम्बर को सलमान की हाजिरी माफी दरख्वास्त मंजूर कर उन्हें 16 जनवरी को कोर्ट में पेश होने का आदेश दे रखा है। सलमान के अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत ने हाजिरी माफी की दरख्वास्त लगाकर अदालत से कहा था कि सलमान खान मुंबई में निवास करते हैं और वहां कोविड-19 महामारी फैली हुई है। इस वजह से उन्हें कोर्ट में पेश होने से माफी दी जाए। अप्रेल 2018 में सलमान खान ने ट्रायल कोर्ट से मिली 5 साल की सजा को जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में चुनौती दी थी। इसके बाद वे सिर्फ एक बार कोर्ट में पेश हुए। जानकारी के अनुसार वे 16 बार वे हाजिर माफी का लाभ ले चुके हैं। कोरोना काल में उनकी पहली पेशी 18 अप्रेल को, दूसरी 4 जून को, तीसरी पेशी 16 जुलाई को, चौथी 14 व पांचवी 28 सितम्बर को तथा छठी पेशी 1 दिसम्बर को थी।

काला हिरण शिकार प्रकरण में ट्रायल कोर्ट ने 5 अप्रेल 2018 को सलमान खान को दोषी करार देते हुए पांच साल की सजा सुनाई थी। सजा सुनाए जाने के साथ ही सलमान खान को गिरफ्तार कर जोधपुर जेल भेज दिया गया था। लेकिन तीन दिन बाद उन्हें जमानत मिल गई थी।

जोधपुर पुलिस ने सलमान खान व अन्य के खिलाफ 2 अक्टूबर 1998 को हिरण शिकार का मामला दर्ज किया। सलमान के खिलाफ हिरण शिकार का मामला विश्नोई समुदाय की तरफ से दर्ज कराया गया था। सलमान खान के खिलाफ तीन अलग-अलग स्थान पर हिरण शिकार व अवधि पार लाइसेंस के हथियार रखने के मामले दर्ज किए गए। हिरण शिकार के एक मामले में 17 फरवरी 2006 को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने सलमान को एक साल की सजा सुनाई। घोड़ा फार्म हाउस क्षेत्र में शिकार मामले में 10 अप्रेल 2006 को 5 साल की सजा व 25 हजार का जुर्माना लगाया। सलमान ने दोनों सजा को जिला एवं सत्र न्यायालय में चुनौती दी हुई है।

Leave a comment

Your email address will not be published.