कई विद्वानों ने अनेक बार रेखांकित किया है कि व्यक्ति को अपने सपनों का पीछा मरते दम तक करना चाहिए.​ फिर भले ही उसमें कितना भी नुकसान हो जाए, अपने सपने को पूरा करके ही दम लेना चाहिए. भारत के उद्यमी रतन टाटा एक ऐसे ही व्यक्ति हैं जिन्होंने अपने सपनों की लखटकिया नैनो कार को इलेक्ट्रिक कार के रूप में फिर से बाजार में उतारने का फैसला किया है और इसके लिए उन्होंने अपनी कंपनी को कह दिया है कि वे अपने सामने ही पूरे भारत को नैनो इलेक्ट्रिक की सवारी करते देखना चाहते हैं.

बता दें कि रतन टाटा एकमात्र ऐसे उद्यमी हैं जिन्होंने आम आदमी की तकलीफों को देखते हुए उसे एक लाख रूपए की मामूली कीमत पर कार में सवारी करने का मौका उपलब्ध कराया था लेकिन कतिपय कारणों से ये प्रोजेक्ट लोकप्रिय नहीं हो पाया और रतन टाटा के सपनों की टाटा नैनो कार सड़कों से धीरे-धीरे बाहर हो गई.

रतन टाटा ने अब अपनी नैनो को इलेक्ट्रिक के रूप में उतारने का निश्चय किया है. इससे उसके इंजन की वह आवाज खत्म हो जाएगी जिसकी वजह से मिडिल क्लास इसे आटो के इंजन वाली कार कहकर हिकारत से देखता है और इसी वजह से ये प्रोजेक्ट फेल हो गया था. अब वह आवाज नहीं रहेगी तो प्रोजेक्ट की सफलता की पूरी उम्मीद बताई जा रही है. Tata Motors नैनो को वापस ला रही है. इसे इलेक्ट्रिक व्हीकल के रूप में लॉन्च किया जाएगा.

Tata Motors के पास इलेक्ट्रिक कार बाजार की 80% से अधिक बाजार हिस्सेदारी है. Nexon EV, Tigor EV और Tiago EV काफी लोकप्रिय हैं. रतन टाटा अपनी इलेक्ट्रिक नैनो के साथ हाल ही में देखी गई. ये माइक्रो ईवी के रूप में आएगी. टाटा की इलेक्ट्रिक नैनो में इलेक्ट्रिक मोटर और बैटरी लगाकर परीक्षण किए जा रहे हैं. इसका डिजाइन भी नया कराया जा रहा है.

Tata Motors ने अभी Nano EV की घोषणा नहीं की है लेकिन रतन टाटा को इलेक्ट्रिक नैनो में कई बार सवारी करते देखा गया है. माना जा रहा है कि टाटा की इलेक्ट्रिक नैनो उन 10 नए ईवी में से एक हो सकता है, जिसे टाटा अगले पांच वर्षों में लॉन्च करने की योजना बना रहा है.

Leave a comment

Your email address will not be published.