भारत में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में सबसे ज्यादा दुपहिया सवारों की मौत होती है. वे भले ही दुनिया का सबसे सर्वश्रेष्ठ हेलमेट इस्तेमाल कर लें लेकिन इसके बावजूद सड़क पर गिरते ही उनके सिर तरबूज की तरह फट जाते हैं. फिर भले ही उन्हें सड़क पर ही चिकित्सा सहायता मिल जाए, उनकी मौत को कोई रोक नहीं पाता है.

इस स्थिति से निजात दिलाने के लिए इटली के एक हेलमेट निर्माता ऐरोह (Airoh) ने एयरबैग वाला हेलमेट बनाया है. अभी उसके परीक्षण चल रहे हैं लेकिन उस पर नजर रखने वाले परिवहन विशेषज्ञों का मानना है कि वह 2023 तक बाजार में उपलब्ध हो जाएगा और उसके बाद दुपहिया सवारों के सिर तरबूज की तरह नहीं फटेंगे. हेलमेट का एयरबैग दुपहिया सवारों के पूरे मस्तक को बचा लेगा.

एयरबैग सुरक्षा तकनीक वाला हेलमेट स्वीडिश निर्माता ऑटोलिव (Autoliv) के सहयोग से बनाया गया है. ये कंपनी एयरबैग बनाने में 70 साल का अनुभव रखती है.

एयरबैग हेलमेट कार एयरबैग तकनीक की तरह ही काम करेगा. जैसे ही दुर्घटना होगी, वैसे ही बाइक सवार के सिर पर रखे हेलमेट के ऊपरी हिस्से में लगा एयरबैग खुल जाएगा और हेलमेट समेत सिर के चारों ओर सुरक्षा घेरा बना देगा. हेलमेट पारंपरिक हेलमेट की तुलना में अधिक घातक धक्का झेल सकेगा. इससे सर में फ्रैक्चर की संभावना लगभग आधी हो जाएगी.

एयरबैग हेलमेट तकनीक के परीक्षण 2020 से जारी हैं. हेलमेट के प्रोटोटाइप मॉडल की नवीनतम सुरक्षा मानकों के अनुसार टेस्टिंग की जा रही है जिसमें कंपनी एयरबैग खुलने के पहले और बाद के परिणामों की जांच कर रही है. एयरबैग हेलमेट बाजार में अगले साल लॉन्च किया जा सकता है.

Leave a comment

Your email address will not be published.