Compressed Natural Gas यानी सीएनजी (CNG) आटोमोबाइल बाजार का प्रमुख पर्यावरण मित्र ईंधन है। ये ग्राहकों को भारी किफायत से कार और अन्य वाहन चलाने का मौका उपलब्ध कराता है। इसके अलावा ये पर्यावरण का मित्र भी है। इस ईंधन से पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले तत्वों का डिस्चार्ज ना के बराबर होता है।

CNG फ्यूल ग्राहकों को पेट्रोल और डीजल की तुलना में सस्ता मिलता है. इससे प्रदूषण कम होता है. पेट्रोल से सस्ता है. सरकार CNG को प्रमोट करती है. इसी CNG की खपत इन खास तरीकों से घटाई जा सकती है. इससे आप एक किलो CNG में अधिक किलोमीटर तय कर सकते हैं।

टैंक फुल नहीं

पेट्रोल और डीजल टैंक ओवरफिल न कराएं क्योंकि एक्स्ट्रा फ्यूल बर्बादी होता है. CNG टैंक को ओवेरफिल नहीं करना चाहिए.

AC, हीटर

CNG गाड़ी में हीटर या AC खुला रखने से फ्यूल खपत पर असर आएगा. ac और हीटर ज्यादा फ्यूल खाते हैं.मॉडरेट इस्तेमाल खपत कम कर सकता है.

प्रेशर

गाड़ी में टायर प्रेशर कम है तो पॉवरट्रेन प्रेशर तेल खपत में इजाफा करता है. इसलिए टायर प्रेशर को सही लेवल में नहीं रखना मूर्खता होगी.

CNG व्हीकल है तो गैस टैंक की सील चेक कर लें. जरा भी गड़बड़ दिखे तो उसे तत्काल ठीक कराएं. लीक होने पर गैस खर्च होती है. पार्किंग में कार को धूप में खड़ा न करें. पेड़ के नीचे या शेड में खड़ा करें.

Leave a comment

Your email address will not be published.